भारत और वेस्टइंडीज के बीच दो टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला टेस्ट आज से खेला जा रहा है। टॉस जीता था वेस्टइंडीज की टीम ने और उन्होंने पहले बल्लेबाजी चुनी। पहले खेलने उतरी कैरिबियन टीम को उनके ओपनर्स ने ठीक-ठाक शुरुआत दी। कप्तान क्रेग ब्रेथवेट और टैगेनारिन चंद्रपॉल ने पहले विकेट के लिए 31 रनों की साझेदारी की। इस छोटी सी साझेदारी को तोड़ने का काम किया आर अश्विन (R Ashwin) ने। ऑफ स्पिनर गेंदबाज ने चंद्रपॉल को क्लीन बोल्ड कर भारत को पहली सफलता दिलाई। इस विकेट के साथ ही अश्विन ने अनोखा रिकॉर्ड बना दिया।

वेस्टइंडीज ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी चुनी

डोमिनिका में आज से भारत और वेस्टइंडीज (WI vs IND) के बीच पहला टेस्ट शुरु हुआ है। टॉस जीता था वेस्टइंडीज के कप्तान क्रेग ब्रेथवेट ने और उन्होंने पहले बल्लेबाजी करना सही समझा। वेस्टइंडीज टीम ने पहले खेलते हुए ठीक-ठाक शुरुआत की। कप्तान क्रेग ब्रेथवेट और टैगेनारिन चंद्रपॉल ने पहले विकेट के लिए 31 रनों की साझेदारी की। टैगेनारिन चंद्रपॉल 12 रन बनाकर आर अश्विन (R Ashwin) के शिकार बने। इसके तुरंत बाद आर अश्विन (R Ashwin) ने ब्रेथवेट को रोहित शर्मा के हाथों लपकवाकर वेस्टइंडीज को दोहरा झटका दिया। वहीं इसके बाद शार्दुल ठाकुर ने भी रेमन रेफर को चलता कर टीम इंडिया को तीसरी सफलता दिला दी।

अश्विन ऐसा कारनाम करने वाले पहले भारतीय बने

भारत ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट में अपनी पकड़ी मजबूत कर ली है। उनकी टीम के स्टार बॉलर आर अश्विन (R Ashwin) ने दो विकेट लेकर विरोधी टीम की कमर ही तोड़ दी उन्होंने पहला विकेट टैगेनारिन चंद्रपॉल का लिया। इस विकेट के साथ ही अश्विन (R Ashwin) ने अनोखा कीर्तिमान स्थापित किया। दरअसल उन्होंने टैगेनारिन चंद्रपॉल के पिता शिवनारायण चंद्रपॉल का भी विकेट लिया हुआ है। यानि पिता-पुत्र का विकेट लेने वाले वह पहले भारतीय गेंदबाज बन गए हैं।

इसे भी देखें: एक ऐसा गेंदबाज जिससे गेंद करती थी बात, दुनिया में फिर नहीं हुआ वैसा “जादुई” बॉलर

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *