दुनिया के विस्फोटक ओपनर्स में से एक वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) के नाम से आज भी गेंदबाज सहम जाते हैं। टीम इंडिया के इस पूर्व खिलाड़ी ने वनडे और टी20 तो छोड़िए, बल्कि टेस्ट क्रिकेट में भी आक्रामक बल्लबाजी ही की। इसके अलावा वीरू से जुड़े कई अजब-ग़जब किस्से भी हैं जिसे सुन लोग हैरान रह जाते हैं। ऐसी ही एक किस्सा भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच एक टेस्ट मैच का है। इस मैच में सहवाग (Virender Sehwag) ने कंगारू कप्तान रिकी पोंटिंग को अंपायर के सामने झूठा साबित कर दिया था।

दुनिया के बेहतरीन सलामी बल्लेबाजों में से एक

भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज खिलाड़ियों में से एक वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) क्रिकेट की दुनिया में अपनी बेखौफ बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं। दाएं हाथ के इस विस्फोटक बल्लेबाज के सामने गेंदबाज़ कोई भी होता था, वह उनके सामने ज़रा भी भयभीत नहीं होते थे। उनके नाम टेस्ट क्रिकेट में दो दोहरे शतक दर्ज हैं। ऐसा करने वाले वह पहले क्रिकेटर हैं। इसके अलावा सहवाग (Virender Sehwag) के नाम वनडे इंटरनेशनल में कप्तान के तौर पर एक पारी में सबसे ज़्यादा रन बनाने का भी रिकॉर्ड है। दरअसल वेस्टइंडीज के खिलाफ 2011 में उन्होंने 219 रनों की बेहतरीन पारी खेली थी।

जब सहवाग ने रिकी पोंटिंग को बनाया था बेवकूफ

दरअसल यह वाकया 2008 भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया मोहाली टेस्ट का है। इस मैच की एक पारी के दौरान वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) 80 रनों के स्कोर पर बैटिंग कर रहे थे। तभी मिचेल जॉनसन की एक गेंद उनके बल्ले का किनारा लेकर विकेटकीपर के पास चली गई। हालांकि अंपायर ने इसे नॉट-आउट करार दिया। इसी पर ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग सहवाग के पास गए और उनसे पूछा कि गेंद आपके बल्ले से लगी है या नहीं तो उन्होंने स्वीकार कर लिया। पोंटिंग इसके बाद अंपायर असद राउफ के पास गए और उनसे कहा कि वीरू खुद स्वीकार कर रहे हैं कि गेंद ने उनके बल्ले का किनारा लिया है। हालांकि अंपायर द्वारा सहवाग से पूछने पर भारतीय खिलाड़ी ने साफ इनकार कर दिया।

VIDEO देखें:

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *